Saturday, December 21, 2019

लालची लोमड़ी की कहानी | Hindi kahaniya For Kids

इस पोस्ट में बच्चो के लिए Hindi kahaniya For Kids लिखी गई है अगर आप को यह पोस्ट आचा लगे तो कमेन्ट में जरुर बताये |



लालची लोमड़ी की कहानी | Hindi kahaniya For Kids


एक जंगल में दो दोस्त रहा करते थे एक कौवा था और एक हिरन थी | एक दिन  उस जंगल में एक लोमड़ी आयी | वह लोमड़ी बहुत भूखी थी और खाने की तलाश  में  जंगल में इधर उधर भटक रही थी |तभी उसने हिरन और कौवे को देखा | हिरन को देखकर लोमड़ी के मन में लालच आयी और उसने सोचा की आज तो बहुत ही स्वादिष्ट भोजन मिलेगा |तब लोमड़ी ने हिरन और कौवे से दोस्ती का हाथ बढ़ाने का सोचा और वह उन दोनों के पास गया और बोला कैसे  हो दोस्तों | मै कई दिनों से तुम दोनों को साथ देख रहा हूँ और मै भी तुम्हारा दोस्त बनना चाहता हूँ |

तब कौवे ने कहा माफ़ करना  हम दोस्त नहीं बन सकते तब लोमड़ी ने कहा कोई बात नहीं | तब लोमड़ी ने मन में सोचा मुझे कुछ और तरकीब सोचनी पड़ेगी | तब लोमड़ी ने चालाकी से  हिरन को कहा  की यहाँ पास के गावं में एक किसान रहता है जिसके खेतों में बहुत अच्छी फसल उगी है जो तुम्हारा बहुत अच्छा भोजन बन सकता है |

लोमड़ी की इस बात पर कौवे को थोडा शक हुआ और कौवे ने कहा की हमें यहाँ जंगल में पेट भरके भोजन मिल जाता है तो हम वहा क्यों जाए | फिर लोमड़ी को बड़ा अफ़सोस हुआ की उसकी तरकीब काम नहीं आयी |





अगले दिन फिर लोमड़ी हिरन के पास गया जब वो अकेला था और उसने कहा कैसे हो मै कल तुम्हारी बस मदद करना चाहता था जरा सोचो की अगर तुम्हे खाने के लिए पेट भरकर हरी भरी घास मिल जाए यह सुनकर हिरन के मन में लालच आयी और वह लोमड़ी की बातो में फस गया | लोमड़ी फिर हिरन को किसान की खेत पर लेकर गया| वहां हरी भरी खेत देखकर हिरन खुश हो गया | फिर उसने पेट भर कर घास खाई और वह दोनों वापस जंगल आ गए | ऐसे वह दोनों रोज जाने लगे और रोज हिरन पेट भरकर खाता था |

एक दिन किसान खेत में आया तभी उसने देखा की उसके खेत की फसल कोई जानवर खाया हुआ है और तभी उसने हिरन के पैरो के निशान देखे वह समझ  गया की यहाँ कोई जानवर आया था एयर उसने एक जाल बिछा दिया | अगले दिन जब हिरन वापस घास खाने आया तो वह जाल में फस गया | जाल में फसा हुआ हिरन देखकर लोमड़ी खुश हो गया और बोला मेरी तरकीब काम आगई | लोमड़ी खुश होकर हिरन को पकड़ने जा रहा था उतने में किसान को पास आते हुए देखकर लोमड़ी भाग गया और पेड़ के पीछे जाके छिप गया |


 तभी जंगल में कौवा सोच रहा था की हिरन को जाकर बहुत समय हो गया अभी तक वह लौटा क्यों नहीं तब उसको लगा की वह किसी मुसीबत में है मुझे उसकी मदत करनी चाहिए और वह खेत की ओर उड़ने लगा वहा उसने देखा की हिरन जाल में फस हुआ था तब कौवा उसके पास गया और उसे मरे रहने का नाटक करने को बोला और हिरन की आँखों पर चोच मारने लगा जिससे की किसान को लगे की हिरन मर चूका है |

 फिर कुछ समय बाद वहा पर किसान आया और उसने देखा की हिरन तो मर चूका है और कौवा उसकी आँखे नोच रहा है | फिर किसान आकर वह जाल निकाल  देता है जाल निकालते ही हिरन वहां से भाग जाता है और इस तरह हिरन जाल से छुट जाता है |

Moral of this Story :

इस कहानी से हमें यह सिख मिलती है की हमें कभी भी लालच नहीं करनी चाहिए


No comments:

Post a Comment